Dividend होता क्या है | Dividend meaning in hindi

जब भी हम शेयर मार्केट में इन्वेस्ट करते है तो मुख्य रूप से दो तरीके से मुनाफा कमाई कर सकते हैं। पहला तरीका है स्टॉक प्राइस बढ़ने के बजह से और दूसरा जो हमें नियमित रूप से मुनाफा कमाई कर सके वो है  Dividend। आज हम जानेंगे Dividend क्या है (dividend meaning in hindi), कैसे कंपनी डिविडेंड देती है इससे जुड़ी और भी बाते।

Dividend होता क्या है Dividend meaning in hindi:-

जब भी कोई कंपनी मुनाफा कमाती है तो उस प्रॉफिट का कुछ हिस्सा कंपनी के Board of Director  शेयरहोल्डर के बीज वितरण करते है। उसी को Dividend कहते हैं। कंपनी डिविडेंड खर्चों को निकालकर बचे हुए पैसों पर Dividend घोषित करता हैं। आम तौर पर वह कंपनी डिविडेंड सबसे ज्यादा देती हे जो बहुत बड़ा मुनाफा कमाते है और पहले से ही स्थिर कंपनी हैं। क्युकी घाटे में चल रही कंपनी वैसे भी Dividend नहीं दे पाएगी। और जो बढ़ती हुई कंपनी होती है वो ज्यादातर अपना प्रॉफिट को अपनी बिज़नस पे ही पुनर्निवेश करता हैं। ताकि वो जल्दी से जल्दी अपना बिज़नस को बिस्तार कर सके।

Dividend का प्रकार (Types of Dividend):-

मुख्य रूप से कंपनी 2 तरह का डिविडेंड घोषणा करता हैं समय के हिसाब से। एक तो है Interim dividend और दूसरा है Final Dividend. दोनों में फर्क बहुत कम हैं।

  • Interim dividend:-

ये डिविडेंड कंपनी शेयर होल्डर को कभी भी दे सकती हैं. अगर कभी किसी Quarter में कंपनी अच्छी मुनाफा कमाई कर रहा है। तो हो सकता है कंपनी मुनाफा का कुछ हिस्सा शेयरहोल्डर के साथ Interim Dividend के रूप में घोषणा करे। आम तौर पर अर्ध तिमाही या तिमाही रिजल्ट के बाद ही डिविडेंड घोषित होता हैं। इसे देने के लिए AGM (Annual General Meeting) की भी जरुरत नहीं पड़ती।

  • Final Dividend:-

जैसा की आपको नाम से ही पता लग गया है अंतिम बार मिलने वाला डिविडेंड। Final Dividend किसी भी शेयर होल्डर को तब मिलता है। जब Financial year ख़तम होने के बाद AGM (Annual General Meeting) में ये घोषित किया जाता है सारे ही इक्विटी शेयरहोल्डर को Dividend मिलने वाला हैं। मतलब जब कंपनी को उस साल में कितना मुनाफा हुआ ये पता चल जाता है तब कंपनी Final Dividend की घोषणा करता हैं। इस डिविडेंड को कंपनी साल में एक बार ही दे सकती हैं।

Dividend से जुड़ी 4 महत्वपूर्ण दिन:-

हर स्टॉक मार्केट में इन्वेस्ट करने वाले लोगो डिविडेंड से जुड़ी इस ४ महत्वपूर्ण दिन को जरुर पता होना चाहिए। ताकि अगर आपको किसी शेयर में डिविडेंड मिलना है तो सरलता समझ सके क्या आप Dividend के लिए योग्य हो या नहीं।

  • Declaration Date:- ये वो दिन है जब Board of Director डिविडेंड को मंजूर और घोषणा करते है की इस साल वो कंपनी Dividend पेमेंट करने वाले हैं। इस दिन ही कितने रुपये का डिविडेंड देंगे, कब देगा बताया जाता हैं।
  • Ex- Dividend Date:- रिकॉर्ड दिन के 2 दिन पहले को Ex Dividend Date कहते हैं। जो शेयरहोल्डर इस दिन के बाद शेयर खरीद लेते है उसको डिविडेंड नहीं मिलता हैं। इसका मतलब आपको Dividend चाहिए तो Ex Dividend Date के पहले ही खरीदना चाहिए।
  • Record Date:- इस दिन कंपनी घोषणा करता है की कौन सा शेयरहोल्डर योग्य है और कौन नहीं। जिस भी Shareholder का नाम रिकॉर्ड दिन तक होता है उसे कंपनी Dividend पेमेंट करता ही हैं। अगर कोई निवेशक रिकॉर्ड दिन ही शेयर खरीदता है तो वो डिविडेंड के लिए योग्य नहीं हैं।
  • Payment Date:- इस दिन कंपनी सारे योग्य इन्वेस्टर को Dividend वितरित  करता हैं। ज्यादातर पेमेंट दिन AGM(Annual General Meeting) के 30 दिन बाद आता हैं।

Dividend होता क्या है Dividend meaning in hindi

क्या Dividend देना कंपनी के लिए सही है:-

Dividend पेमेंट करना कंपनी के लिए कही ना कही Equity पर असर डालता हैं। जो पहले ही कहा है की डिविडेंड कंपनी के मुनाफा का कुछ हिस्सा होता हैं। देखा जाए तो कंपनी शेयरहोल्डर को dividend ना देके अपने प्रॉफिट से कंपनी को विस्तार करने में लगा सकते हैं। अगर कंपनी डिविडेंड दे रही है तो Reserve & Surplus को कम कर रही हैं। जिसकी वजह से Equity कम हो रहा हैं। जब Dividend पेमेंट करती है तब कंपनी के Value के ऊपर कोई भी फर्क नहीं पड़ता लेकिन उसकी शेयर प्राइस पर जरुर पड़ता हैं।

जैसे ही कंपनी डिविडेंड घोषणा करता है तब शेयर प्राइस बढ़ जाता है क्युकी इन्वेस्टर Dividend के लिए इन्वेस्ट करते हैं। जिसकी बजह से शेयर प्राइस बढ़ जाता है। जब Record Date को ये घोषित होता है कौन कौन इसके लिए योग्य हैं। तब इसके बाद शेयर प्राइस में गिरावट भी आ सकता हैं। जो निवेशक Dividend के लिए आए है अब वो इन्वेस्टर इसे बेचना शुरू करते हैं। ऐसा जरूरी नहीं की हर कंपनी के साथ ऐसा ही होगा। लेकिन ज्यादातर ठीक इसी तरह का होता हैं।

Dividend शेयरहोल्डर को कंपनी क्यों देता है:-

डिविडेंड पेमेंट करना कही ना कही कंपनी के लिए रिस्क भी हो सकता है। लेकिन कंपनी शेयरहोल्डर को Dividend देता ही क्यों? क्या कारण है जिसकी वजह से कंपनी डिविडेंड पेमेंट करता है. चलिए जानते हैं।

  • Shareholder को भरोसा दिखना:- Dividend देने का एक मुख्य कारण है शेयरहोल्डर पर कंपनी का भरोसा दिखाने के लिए। ताकि निवेशक लंबे समय तक इनवेस्टेड रहे और लगातार डिविडेंड मिलने की वजह से भविष्य में और ज्यादा इन्वेस्ट करे।
  • कंपनी अच्छा दिखाने के लिए:- जब कोई कंपनी Dividend पेमेंट करती है. तो ऐसा माना जाता है कि कंपनी अच्छी कमाई कर रही हैं। क्युकी तभी तो शेयरहोल्डर को डिविडेंड दे पा रही है। तो ऐसे में कंपनी बहुत सारे इन्वेस्टर को निवेश करने के लिए आकर्षित करता हैं।

क्या Dividend देनेवाले कंपनी पर निवेश करना सही है:-

जरुरी नहीं की हर डिविडेंड देने वाली कंपनी अच्छी हैं। Dividend देखकर आपको किसी भी शेयर पर आँख बंद करके इन्वेस्ट नहीं करना चाहिए। आपको एसी शेयर में निवेश करना चाहिए जो कंपनी भबिस्य में बढ़ने की पूरी  संभावना हैं। एसी कंपनी का शेयर आपको जबरदस्त रिटर्न कमाके देगा।

आशा करता हु आपको डिविडेंड क्या है (Dividend meaning in hindi) पढ़के अच्छी तरह से समझ आ गया हैं। मन में कोई सवाल या सुझाब है तो कमेंट में जरुर पूछे। Share Market के बारे में बिस्तार से सीखने समझने के लिए आप हमारे और भी पोस्ट को पढ़ सकते।

बोनस शेयर क्या है Bonus share meaning in hindi

पहला शेयर कैसे खरीदे, How do I buy first share 6 step

Leave a Comment